शहडोल. बेकाबू कोरोना से मौत का सिलसिला थम नहीं रहा. मध्य प्रदेश के शहडोल में उस वक्त हड़कंप मच गया गया, जब यहां ऑक्सीजन की कमी से 12 कोविड मरीजों की मौत हो गई. यह घटना शहडोल मेडिकल कॉलेज में हुई. इसके अलावा अन्य वजहों से 10 और कोविड मरीजों की मौत 24 घंटे में यहां हुई है.इन 12 मौतों की पुष्टि शहडोल के अपर कलेक्टर अर्पित वर्मा ने भी की है. जानकारी के मुताबिक, ऑक्सीजन का प्रेशर शनिवार रात 12 बजे अचानक कम हो गया. इसके बाद मरीज तड़पने लगे. परिजन मास्क दबा कर उन्हें राहत देने की कोशिश करते रहे, लेकिन वे नाकाम रहे.

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सरकार पर निशाना साधा
मामले को लेकर मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने ट्वीट किया- अब शहडोल में ऑक्सिजन की कमी से मौतों की बेहद दुखद ख़बर ? भोपाल , इंदौर , उज्जैन , सागर , जबलपुर , खंडवा , खरगोन में ऑक्सिजन की कमी से मौतें होने के बाद भी सरकार नहीं जागी ? आख़िर कब तक प्रदेश में ऑक्सिजन की कमी से यूं ही मौतें होती रहेगी ? शिवराज जी आप कब तक ऑक्सिजन की आपूर्ति को  कर झूठे आंकड़े परोसकर , झूठ बोलते रहेंगे , जनता रूपी भगवान रोज़ दम तोड़ रही है ? प्रदेश भर की यही स्थिति , अधिकांश जगह ऑक्सिजन का भीषण संकट ? रेमड़ेसिविर इंजेक्शन की भी यही स्थिति , सिर्फ़ सरकार के बयानो में व आंकड़ो में ही ऑक्सिजन व रेमड़ेसिविर उपलब्ध , अस्पतालों से ग़ायब ? सरकार काग़ज़ी बैठकों से निकलकर मैदानी स्थिति सम्भाले , स्थिति बेहद विकट , प्रदेश वासियो को इस संकट से निकाले , ऑक्सिजन की आपूर्ति के युद्ध स्तर पर प्रयास करे , स्थितियाँ भयावह होती जा रही है.