कोरोना संक्रमित डायबिटीज रोगियों को इलाज के दौरान फंगल इंफेक्शन हुआ; आंखों की रोशनी और जान तक गई
 


जयपुर कोरोना से संक्रमित डायबिटीज के रोगी इलाज के दौरान एक फंगस का शिकार हो रहे हैं, जो उनकी आंखों की रोशनी तक खत्म कर दे रहा है। जयपुर में 15 दिनों के भीतर 52 ऐसे मामले सामने आए हैं, जिनमें कोरोना से संक्रमित डायबिटीज रोगियों की आंखों की रोशनी चली गई। ये सरकारी अस्पतालों से मिले आंकड़े हैं। भास्कर से बातचीत में एक डॉक्टर ने कहा कि ऐसे केसों की संख्या जयपुर में 200 से भी ज्यादा हो सकती है।

अभी सामने आए मामलों में रोगियों को कोरोना के बाद म्यूकोरमाइकोसिस नाम की बीमारी हो गई। नतीजतन उनकी आंखों की रोशनी हमेशा के लिए चली गई। भास्कर ने इस बीमारी और फंगल इन्फेक्शन को लेकर जैन ENT के CEO डॉ. अजय जैन और जैन ENT हॉस्पिटल के डायरेक्टर डॉ. सतीश जैन से बात की। उन्हीं के जवाबों से जानिए म्यूकोरमाइकोसिस के बारे में सबकुछ...

क्या है? आंंख की नसों के पास में फंगस जमा हो जाता है, जो सेंट्रल रेटाइनल आर्टरी का ब्लड फ्लो बंद कर देता है। इससे आंखों की रोशनी हमेशा के लिए चली जाती है।

क्यों? कोरोना में दिए जाने वाले स्टेराॅयड इम्युनिटी को और भी कम कर देते हैं। ऐसे में दवा का साइड इफेक्ट होने लगता है और व्यक्ति को म्यूकोरमाइकोसिस हो जाता है।

लक्षण? नाक खुश्क होती है। नाक की परत अंदर से सूखने लगती है व सुन्न हो जाती है। चेहरे व तलवे की त्वचा सुन्न हो जाती है। चेहरे पर सूजन आती है। दांत ढीले पड़ते हैं।

इलाज? इस फंगस व इंफेक्शन को रोकने के लिए एकमात्र इंजेक्शन लाइपोसोमल एम्फोटेरिसिन-बी आता है। कीमत 5 हजार रुपए है। मरीज को 6 लगते हैं। यदि इंफेक्शन बढ़ जाए तो पहले ऑपरेशन कर नाक-आंख के बीच के गले हुए हिस्से को निकाला जाता है और फिर दवाएं चलती हैं। ऑपरेशन भी काफी जटिल होता है।

खतरा? सात से आठ दिन में ही इलाज न हो और फंगस न निकाला जाए तो ब्रेन तक फंगस इंफेक्शन फैलना तय है। इसके बाद व्यक्ति को बचाना लगभग नामुमकिन है।

बचाव? कम से कम 4-5 दिन बाद डायबिटीज पेशेंट का फीडबैक लेकर संतुलित मात्रा में स्टेराॅयड देने चाहिए। शुरुआती लक्षण बहुत सामान्य हैं, लोग ध्यान नहीं देते।

म्यूकोरमाइकोसिस के 4 केस, सबक- लक्षण दिखने पर देरी बिल्कुल न करें

पहला केस दिल्ली का: 49 साल की मीना खंडेलवाल 10 अप्रैल को कोरोना पॉजिटिव हो गईं। वे डायबिटिक थीं। कोरोना के इलाज के दौरान उन्हें उन्हें स्टेराॅयड दिए गए। उन्हें साइड इफेक्ट हो गया। चेहरे पर इतनी सूजन आ गई कि मास्क लगाना मुश्किल हो गया। 20 अप्रैल को जयपुर जैन ENT हॉस्पिटल आए। इलाज चला। पर एक आंख नहीं बच पाई।

दूसरा केस इटावा का: ताराचंद (46) डायबिटिक थे। 27 अप्रैल को संक्रमित हुए। स्टेराॅयड देने के कुछ ही दिन में साइड इफेक्ट आने लगे। इटावा के डॉक्टर्स ने जयपुर जाने को कहा। जैन ENT हॉस्पिटल में उनकी सर्जरी की गई, लेकिन देेरी की वजह से दोनों आंखें नहीं बचाई जा सकीं।

तीसरा केस कोटा का: मुनाफ (42) की कोविड रिपोर्ट तो निगेटिव आई, लेकिन CT स्कैन में इंफेक्शन आया। उन्हें भी स्टेराॅयड दिए गए। मुनाफ को इतना अधिक इंफेक्शन हुआ कि महज पांच दिन में ही दोनों आंखें प्रभावित हो गईं और सर्जरी के बाद भी दोनों आंखें नहीं बचाई जा सकीं।

चौथा केस भी कोटा का: नंद किशोर 15 अप्रैल को कोरोना पॉजिटिव हुए और 20 अप्रैल से उनकी आंखों में इंफेक्शन होने लगा। वो समय पर अस्पताल पहुंच गए और एक आंख बचा ली गई।

डॉक्टर्स की राय: नंद किशोर के केस में डॉक्टरों ने कहा कि वो वक्त पर आए थे। अगर 4-5 दिन की भी देरी होती तो दूसरी आंख भी जा सकती थी। यानी अगर म्यूकोरमाइकोसिस के लक्षण नजर आएं तो देरी बिल्कुल न करें।

गुजरात में भी म्यूकोरमाइकोसिस के केस मिले, दिमाग पर भी असर दिखा

अहमदाबाद सिविल डेंटल कॉलेज के डीन गिरीश परमार ने कहा कि म्यूकोरमाइकोसिस जैसे खतरनाक रोग का सबसे ज्यादा खतरा डायबिटीज के उन मरीजों को है, जिन्होंने कोरोना में स्टेराॅयड लिया है। सिविल अस्पताल में 80 में 60 मरीज ऐसे ही हैं। इनमें 9 की मौत हो गई और 3 की आंखों की रोशनी चली गई है।


डॉ. परमार ने कहा कि इस बीमारी में आंख, कान और दांत में इंफेक्शन होने लगता है। चेहरे पर सूजन आने लगती है। धीरे-धीरे इसका असर मस्तिष्क, दांतों, आंख और नाक पर होता है। पहली लहर में भी ऐसे मामले सामने आए थे, लेकिन तब संख्या बहुत कम थी। तब 5-7 मामले ही सामने आए थे और समय पर इलाज मिलने के चलते सभी स्वस्थ भी हो गए थे।