बिलासपुर । जिले के 171 टीकाकरण केंद्रों में कोविड टीका लगाया जा रहा है। नगर निगम क्षेत्र में 40 टीकाकरण केन्द्र बनाएं गए हैं। इसी प्रकार 18 निजी अस्पतालों में भी टीका लगाया जा रहा है। 45 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोग उत्साह के साथ टीका लगवा रहे हैं। इनमें भी 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोग टीका लगवाने में अग्रणी है।
टीकाकरण के लिए शहरी और ग्रामीण दोनों ही केन्द्रों में बड़ी संख्या में लोग जुट रहे हैं। लॉक डाउन की अवधि में भी लोग टीका लगवाने आ रहे हैं। नूतन चौक स्थित आयुर्वेदिक अस्पताल में टीका लगवाने आयी 66 वर्षीय श्रीमती विमला मिश्रा  ने  बताया कि कोरोना संक्रमण को लेकर सुरक्षित होने के लिए टीकाकरण बहुत जरूरी है। मैंने कोविड का प्रथम डोज का टीका लगवाया है। आधा घण्टा मुझे कोविड प्रोटोकाल के तहत् ऑब्जरवेशन में रखा गया था। उन्होंने कहा कि टीका लगवाने में कोई परेशानी नहीं है। उन्होंने कहा कि सभी पात्र लोगों को टीका अवश्य लगवाना चाहिए। जोरापारा निवासी श्रीमती कमलेश मिश्रा 56 वर्षीय गृहणी हैं, वे कहती हैं कि हम लोग हमेशा मास्क लगाते हैं और सेनेटाईजेशन करते हैं। इसके साथ ही टीके के दोनों डोज भी लगवा ले  तो करोना संक्रमण की गंभीरता काफी कम हो जायेगी। 62 वर्षीय श्री रामधन पांडे ने अपना अनुभव साझा करते हुए बताया कि शुरुवात में तो उन्हें टीका लगवाने में डर लग रहा था, लेकिन अन्य लोग जिन्होंने टीका लगवाया है, उन सभी ने बताया कि टीका पूरी तरह सुरक्षित है। करोना से बचाव में टीका कारगर है । उन्होंने कहा कि टीका लगवाने के बाद मैं सुरक्षित महसूस कर रहा हूं।
50 वर्षीय श्रीमती अंजू पांडे ने कहा कि टीकाकरण के लिए सभी व्यवस्था अच्छी है। सुरक्षित तरीके से टीका लगाया जा रहा है। 56 वर्षीय श्री शिवराज सिंह ने बताया कि कोविड संक्रमण की रोकथाम के लिए सभी को टीका अवश्य लगवाना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि टीका लगवाने के बाद भी मास्क लगाना, फिजिकल डिस्टेंसिंग एवं सेनेटाईजेशन जैसे नियमों का पालन करना जरूरी है।